गैलरीमध्यप्रदेशस्लाइडर

MP में देश का सबसे सुंदर गांव: क्या आप जानते हैं मध्यप्रदेश के इस गांव के बारे में, UNWTO की ओर से मिला बेस्ट टूरिज्म विलेज अवॉर्ड

भोपाल. विश्व पर्यटन दिवस पर मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले का लाडपुरा गांव सबसे खूबसूरत गांव में शुमार हुआ है. सबसे खूबसूरत होने के साथ ही पर्यटकों की पहली पसंद बनने के चलते मध्यप्रदेश के निवाड़ी जिले की लाडपुरा गांव को सर्वश्रेष्ठ पर्यटन ग्राम पुरस्कार का तमगा हासिल हुआ है.

विश्व पर्यटन दिवस पर ‘बेस्ट टूरिज्म विलेज अवॉर्ड’ के लिए मध्य प्रदेश के अलावा दो और राज्यों के गांवों को नॉमिनेट किया गया था. एमपी के लाडपुरा गांव के साथ मेघालय का कांति कांगतोंग गांव और तेलंगाना के पंचम्पेली गांव को पछाड़कर यह पुरस्कार हासिल किया है.

इसे भी पढ़ें: नाजायज रिश्ते का कत्ल: 5 साल पहले हुई माशूका की हत्या का खुला राज, राजेंद्रग्राम से प्रवीण गुप्ता गिरफ्तार, पढ़िए लव, सेक्स और धोखे की कहानी

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन विभाग ने प्रदेश के पहले पर्यटन ग्राम के रूप में लाड़पुरा गांव को विकसित किया है. इस गांव की सबसे खास बात यह है कि 1100 लोगों की जनसंख्या वाले गांव में 80 फ़ीसदी से ज़्यादा लोग शिक्षित हैं.

लाडपुरा गांव के ग्रामीणों का कहना है कि गांव में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए होम स्टे तैयार किए गए हैं. होम स्टे के जरिये पर्यटक ग्रामीण परिवेश से रूबरू होने के साथ बुंदेलखंड की संस्कृति हमारी परंपराओ को नजदीक से जानने का मौका मिल रहा है.

बुंदेलखंडी खानपान के साथ लोकगीत और लोकनृत्य को भी पसंद कर रहे है. गांव के प्राकृतिक सौंदर्य के साथ ही गांव की साफ-सफाई भी पर्यटकों को हमारे गांव का रुख करने की तरफ आकर्षित कर रही है.

इसे भी पढें: रूह कांपने वाली वारदात: शराबी पति को पीने से रोका तो कुल्हाड़ी से काट दी पत्नी की गर्दन, जानिए फिर क्या हुआ ?

मध्य प्रदेश पर्यटन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि विभाग का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देना है. लाडपुरा गांव को विकसित करके पर्यटन को बढ़ावा देने का सफल प्रयास किया गया है. इस योजना के तहत आने वाले सालों में 100 गांवों को इसी तरह से विकसित करने की तैयारी की जा रही है.

इसे भी पढें: रंगीन मिजाज अफसर: इस अधिकारी ने आरती बताकर Whatsapp ग्रुप में भेजा अश्लील वीडियो, फिर जो हुआ…

बड़े पर्यटक स्थलों के पास ऐसे गांवों को चिन्हित किया जा रहा है. सोलर पर्यटन के चलते न सिर्फ ग्रामीणों को रोजगार के अवसर पैदा हो रहे हैं बल्कि बाहर से आने वाले पर्यटक भी गांव की सभ्यता संस्कृति और परिवेश को नजदीक से जान रहे हैं.

read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001

छत्तीसगढ़ की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
मध्यप्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
मनोरंजन की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button