जुर्ममध्यप्रदेशस्लाइडर

अनूपपुर में भ्रष्टाचार पर भ्रष्टाचार: चेक डैम का 14 लाख पानी में बह गया, कमिश्नर, CEO के निर्देश को ठेंगा, घटिया निर्माण करा सचिव-ठेकेदार ने लूटा सरकारी खजाना

शैलेंद्र विश्वकर्मा, अनूपपुर। जिले में भ्रष्टाचार की डोर धमने का नाम नहीं ले रही है, रबड़ की तरह बस हर कोने, हर कस्बे से एक नई कहानी लेकर आ रही है. अनूपपुर में जिम्मेदारों की मिलीभगत और भ्रष्टाचार की यारी हो गई है, क्योंकि न किसी पर कार्रवाई हो रही है और न करप्शन पर लगाम लग रहा है. करप्शन की डोर बस लंबी होती जा रही है, जिसके पर काटने में कमिश्नर से लेकर जिला पंचायत CEO के भी पसीने छूट रहे हैं.

दरअसल, अनूपपुर जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत सकोला में दानी बाबा के पास बिछली नदी पर ग्राम पंचायत के सचिव शारदा पांडेय ने ठेकेदार मटेरियल सप्लायर से मिल कर घटिया और गुणवत्ताहीन चेक डैम निर्माण कराया है. इतना ही नहीं सचिव अपने चहेतों के खाते में राशि आहरण कर सरकार को लाखों का चूना लगाया है.

ग्रामीणों ने बताया कि उक्त चेक डैम 14 लाख 77 हजार में स्वीकृत हुआ था. सचिव और ठेकेदार से मिलकर घटिया चेक डैम का निर्माण करा कर 13 लाख 80 हजार रुपए निकाल लिया गया.

ग्रामीणों को नहीं मिला रोजगार –
ग्राम पंचायत सकोला के दानी बाबा के पास बिछली नदी चेक डैम के पास लगभग तीन दर्जन मजदूरों ने बताया कि पंचायत के द्वारा चेक डैम का निर्माण कराया गया है. सचिव ने ठेकेदारों के माध्यम से काम करा दिया.

मजदूरों ने कहा कि हम लोगों ने लगातार ग्राम पंचायतों में जाकर रोजगार की मांग की, लेकिन सचिव और रोजगार सहायक लगातार वर्षों से ग्राम पंचायत पर अपनी मनमानी करते आ रहे हैं. अपने चहेते ठेकेदारों के माध्यम से ग्राम पंचायतों पर निर्माण कार्य करा रहे हैं.

मनरेगा में फर्जी हाजिरी
ग्राम पंचायत सकोला चेक डैम निर्माण में ठेकेदारों के माध्यम से कार्य करा कर लेवर पेमेंट मनरेगा के माध्यम से सचिव रोजगार सहायक अपने लोगों का नाम भरकर कमीशन दे कर उक्त राशि ले लिया, जिससे पंचायत के स्थानीय ग्रामीण आज भी रोजगार के लिए दर-दर भटक रहे हैं. वर्तमान में स्वच्छता के तहत कचरा घर का निर्माण भी सचिव और रोजगार सहायक के माध्यम से चौधरी ठेकेदार को कार्य देकर गांव के मजदूरों को मजदूरी से वंचित कर दिया.

कमिश्नर के आदेश का नहीं हुआ पालन
शहडोल संभाग के कमिश्नर राजीव शर्मा ने अनूपपुर जिले के सभी ग्राम पंचायतों पर नए बने चेक डैम में पानी को रोकने के लिए बोरी बधान, मिट्टी का प्रयोग करने का आदेश लगभग दो महीना पहले दिया था, लेकिन आज भी सकोला ग्राम पंचायत में पदस्थ सचिव आदेश का पालन नहीं किया. अगर पानी भरा हुआ होता तो गुणवत्ता विहीन चेक डैम की सच्चाई सामने आ जाती. इस कारण से सचिव ने कमिश्नर के आदेश का कोई पालन नहीं किया.

अनूपपुर जनपद पंचायत सीईओ वीरेंद्र मणि मिश्रा ने कहा कि सकोला ग्राम पंचायत में चेक डैम निर्माण भ्रष्टाचार को लेकर टीम गठित कर दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button