मध्यप्रदेशस्लाइडर

MP में अन्नदाता हलाकान: आखिर में किसानों को बारिश ने दे दिया दगा, किसान बोले- इस बार इंद्रदेव की बेरूखी से पैदावार होगी कम…

शहडोल। जिले में पिछले कुछ दिनों से बारिश (Rain in Shahdol) नहीं हुई है और प्रचंड गर्मी पड़ रही है. सूर्य की तेज तपिश से लोगों का हाल बेहाल है. वहीं किसान भी परेशान (Shahdol Farmer) हैं. जिनके पास सिंचाई का साधन है, वह किसान अपनी फसलों की सिंचाई की व्यवस्था (Irrigation Arrangement) कर रहे हैं और जिनके पास नहीं है वह बस यही कह रहा है कि आखिर में बारिश ने दगा दे दिया.

इसे भी पढ़ें: Today Petrol Rate: रूलाने लगे हैं पेट्रोल-डीजल के दाम, आज फिर बढ़ी कीमतें, देखें अपने शहर का रेट

बारिश न होने से धान की फसल को नुकसान
पिछले कुछ दिनों से बारिश न होने से किसान परेशान हैं. जिले में बारिश की शुरुआत तो अच्छी हुई और बीच-बीच के अंतराल में बारिश भी होती रही. जिससे किसानों की फसल (Paddy Yield) अच्छी रही. अब आखिर में बारिश ने दगा दे दिया. पिछले कुछ दिनों से बारिश नहीं हो रही है. ऐसे में किसानों के धान की फसल में बालियां तो आ रही हैं, लेकिन पानी की कमी की वजह से वह सुकड़ जा रही हैं. किसानों का कहना है कि अगर एक-दो दिन की बरसात और हो जाती तो धान की फसल में बालियां अच्छी आतीं, जिससे बंपर पैदावार होती.

इसे भी पढ़ें: मर्डर, सुसाइड और जुर्म: गमछे से बहू का गला घोंटा, पत्नी पर चाकू से ताबड़तोड़ वार, फिर कमरे में जाकर कर लिया ये काम…

जिले में बड़े रकबे पर धान की खेती
शहडोल में प्रमुखता से धान की खेती की जाती है. खरीफ के सीजन में ही सबसे बड़े रकबे पर धान की खेती होती है. यहां लगभग 2 लाख हेक्टेयर से भी अधिक इलाके में धान की खेती की जाती है. जिसमें ज्यादातर किसानों के पास सिंचाई का साधन नहीं होता. वह वर्षा पर आश्रित होकर ही खेती करते हैं. ऐसे में अगर थोड़ी भी बारिश में अनियमितता हुई, तो किसानों का नुकसान हो जाता है.

इसे भी पढ़ें: सेक्स की आड़ में कत्ल: MP में युवक को रास्ते में रोक जिस्मानी संबंध बनाने की जिद पर अड़ी अजनबी युवती! फिर हुआ खूनी खेल…

20 से 25 प्रतिशत पैदावार में गिरावट
किसानों का कहना है कि पिछले कुछ दिनों से बारिश नहीं हुई है. धान की फसल को एक-दो दिन की बारिश और चाहिए थी. धान की फसल में बालियां आ रहीं हैं. ऐसे समय में खेतों का सूखना बालियों के लिए अच्छी बात नहीं है. किसानों ने कहा कि जिसके पास सिंचाई का साधन हैं, वह पंप लगाकर सिंचाई कर रहे हैं. यहां एक बड़े रकबे के लोगों के पास सिंचाई की व्यवस्था नहीं है, जिससे सभी के धान नुकसान की कगार पर हैं. गहरे खेतों में तो थोड़ा बहुत पानी है. जबकि उचहन के खेतों में तो सूखा पड़ा हुआ है. कुछ खेतों में तो बालियां ही नहीं आई है. इस बार बारिश न होने से 20 से 25% तक नुकसान हो जाएगा.

इसे भी पढ़ें: MP में साधू की समाधि लीला ! गाजे-बाजे के साथ समाधि ले रहे थे 105 साल के पप्पड़ बाबा, फिर पुलिस ने किया ये काम

जिले में बारिश की स्थिति
बारिश की स्थिति पर नजर डालें तो मौजूदा साल जिले में 961.6 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है. यह हर साल के औसत वर्षा से कम है. विशेषज्ञों की मानें तो जिले में हर वर्ष लगभग 12 सौ मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज होती है, लेकिन मौजूदा साल 961 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है.

इसे भी पढ़ें: MP में कातिल बाप: पिता ने चुनरी से घोंट डाला 17 साल की बेटी का गला, सहन नहीं कर सका उसकी यह हरकत…

आने वाले दिनों में मौसम का अनुमान
आने वाले समय में मौसम की बात करें तो मौसम वैज्ञानिक गुरप्रीत सिंह गांधी बताते हैं कि जिले में 9 अक्टूबर से 13 अक्टूबर के बीच में आसमान साफ रहने एवं बारिश नहीं होने की संभावना है. अधिकतम तापमान 35 से 36 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 23 से 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया जा सकता है. सुबह आद्रता 67 से 72% एवं दोपहर में 33 से 40% तक रह सकती है. इसके अलावा हवा दक्षिण पश्चिम दिशा में 5.0 से 6.0 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से चलने का अनुमान है.

read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001

छत्तीसगढ़ की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
मध्यप्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
मनोरंजन की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button