ट्रेंडिंगदेश - विदेशस्लाइडर

दुनिया की सबसे महंगी व्हिस्की की बोतल, कीमत इतनी कि आलीशान बंगला आ जाए, जानिए कैसे है सबसे अलग!

Whiskey bottle has been sold at a very expensive price: ‘द एमराल्ड आइल’ नाम की व्हिस्की की बोतल काफी महंगी कीमत पर बिकी है। जिस कीमत में एक बोतल बेची गई है, उतने में एक आलीशान बंगला खरीदा जा सकता है। जिसके चलते अब यह दुनिया की सबसे महंगी व्हिस्की की बोतल बन गई है। यह बोतल ‘द क्राफ्ट आयरिश व्हिस्की कंपनी’ की थी। 30 साल पुरानी व्हिस्की की यह बोतल इतनी ऊंची कीमत पर क्यों बिकती है और यह दूसरों से कैसे अलग है? हमें बताइए।

कितने में बिकी है ये बोतल?

एक रिपोर्ट के मुताबिक, ‘द एमराल्ड आइल’ व्हिस्की की बोतल 2.2 मिलियन पाउंड में बिकी है। मौजूदा करेंसी रेट के मुताबिक भारतीय रुपए में इसकी कीमत 23 करोड़ 29 लाख 1 हजार 858 रुपए के बराबर है। यही वजह है कि इस अनोखी व्हिस्की की बोतल को पीना हर किसी के बस की बात नहीं है।

यह बोतल किसने खरीदी है ?

व्हिस्की की यह बोतल अमेरिकी कलेक्टर माइक डेली ने ‘द क्राफ्ट आयरिश व्हिस्की कंपनी’ से खरीदी है। इस बोतल के साथ उन्हें कई महंगी और आलीशान चीजें भी मिलीं, जिनमें एक सेल्टिक एग, एक शानदार छड़ी और कोहिबा सिगार की एक जोड़ी शामिल है, जिनकी कीमत भी काफी ज्यादा है। ये सभी चीजें सोने, हीरे और जवाहरात से बनी हैं।

यह व्हिस्की दूसरों से किस प्रकार भिन्न है ?

‘द एमराल्ड आइल’ व्हिस्की की यह बोतल दूसरों से काफी अलग है। प्रथम दृष्टया यह करीब 30 वर्ष पुराना बताया जा रहा है। एमराल्ड आइल एक दुर्लभ, ट्रिपल-डिस्टिल्ड, सिंगल माल्ट आयरिश व्हिस्की है। क्राफ्ट आयरिश व्हिस्की कंपनी ने कहा, ‘बोतल को इतालवी चित्रकार वेलेरियो अदामी द्वारा डिजाइन किए गए लेबल से ढका गया था, जिससे इसकी कीमत में काफी मूल्य जुड़ गया।’

एक रिपोर्ट के अनुसार, ‘एमराल्ड आइल’ व्हिस्की हस्तनिर्मित है। प्रत्येक बोतल के साथ एक फैबर्ज सेल्टिक अंडा है, जिसे चौथी पीढ़ी के फैबर्ज वर्कमास्टर डॉ. मार्कस मोहर द्वारा हस्तनिर्मित किया गया है। अंडा 18K सोने से बना है, जिसे बनाने में 100 घंटे से अधिक का समय लगा है और इसमें 104 शानदार कटे हीरे जड़े हुए हैं। पन्ना भी लगा हुआ है. साथ ही इसके साथ दी गई घड़ी सोने और रत्नों से जड़ी है, जिसका डिजाइन देखते ही बनता है।

Read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001 29 IAS-IPS

Advertisements
Show More
Back to top button