छत्तीसगढ़जुर्मदेश - विदेशस्लाइडर

पत्नी और 3 बच्चों को मार डाला जालिम पति: कत्ल के बाद थाने में आकर सो गया, पुलिस को कहा- पत्नी के थे अवैध संबंध

Wife and three children in Bilaspur of Chhattisgarh: छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में चरित्र पर शक के चलते पति ने अपनी पत्नी की रस्सी से गला घोंटकर हत्या कर दी. फिर तीन बच्चों की भी मौत हो गई. घटना के बाद आरोपी ने आत्महत्या करने की कोशिश की, लेकिन असफल रहा. जिसके बाद वह खुद थाने पहुंचा और पुलिस को घटना की जानकारी दी. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Wife and three children in Bilaspur of Chhattisgarh: ग्राम हिर्री निवासी उमेंद्र राम केंवट (34) मजदूरी करता था। वह अपनी पत्नी सुकारिता (28) और तीन बच्चों के साथ घर में रहता था। सोमवार रात उमेंद्र शराब के नशे में घर पहुंचा तो पत्नी ने उससे खाना खाने को कहा तो वह विवाद करने लगा। दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि उनमें मारपीट होने लगी।

तीन बच्चों का भी गला घोंट दिया

देर रात हुए इस विवाद के बाद आरोपी उमेंद्र ने दो बेटियों और एक बेटे की रस्सी से गला घोंटकर हत्या कर दी। इसके बाद उसने फांसी लगाकर आत्महत्या करने की भी कोशिश की, लेकिन रस्सी टूट गई। फिर वह मरने के लिए घर में कीटनाशक ढूंढता रहा। जब कुछ पता नहीं चला तो आरोपी थाने पहुंच गया।

आरोपी थाने की बेंच पर सोया था

घटना के बाद रात करीब दो बजे उमेंद्र थाने के बाहर रखी बेंच पर सो गया. उसे इस तरह सोता देख पुलिसकर्मियों ने उसे जगाया और पूछताछ की. जब उसने अपनी पत्नी और बच्चों की हत्या की बात बताई तो पुलिस को उसकी बातों पर यकीन नहीं हुआ. इसके बाद दोपहर करीब तीन बजे पुलिस उमेंद्र को उसके गांव ले गई।

आठ साल पहले हुई थी शादी

पुलिस मौके पर पहुंची तो कमरे में उमेंद्र की पत्नी समेत उसकी बेटी खुशी केंवट (8), निशा केंवट (4) और पवन केंवट (3) की लाशें पड़ी थीं। गांव में चार लोगों की हत्या की खबर मिलते ही लोग दहशत में आ गये. पूछताछ में उमेंद्र ने बताया कि उसकी शादी करीब 8 साल पहले जांजगीर-चांपा के अकलतरा के ग्राम बरगवां निवासी सुकारिता से हुई थी।

पत्नी और बच्चों को छोड़कर ओडिशा चला गया

आरोपी ने पुलिस को बताया कि शादी के बाद से ही दोनों के बीच विवाद होता रहता था. इससे परेशान होकर वह अपनी पत्नी और बच्चों को छोड़कर एक कंपनी में काम करने के लिए ओडिशा चला गया। 6 महीने पहले ही वह गांव लौटा था. इसके बाद झगड़ा तो शांत हो गया, लेकिन उसे अपनी पत्नी सकुराता के चरित्र पर संदेह होने लगा।

घर में सो रहे माता-पिता को पता ही नहीं चला

परिजनों ने बताया कि 1 जनवरी को आरोपी उमेंद्र के माता-पिता की शादी की सालगिरह थी. उन्होंने रात करीब 10 बजे तक घर पर पार्टी मनाई। इसके बाद परिवार के लोग अपने-अपने कमरे में जाकर सो गए। देर रात हुई इस घटना की जानकारी परिवार को भी नहीं हुई। सुबह करीब तीन बजे पुलिस गांव पहुंची तो हत्या की जानकारी हुई।

Read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001 29 IAS-IPS

Advertisements
Show More
Back to top button