ट्रेंडिंगदेश - विदेशधर्मस्लाइडर

प्राण-प्रतिष्ठा के बाद कैसे दिख रहे रामलला: मन मोह लेने वाला है श्रृंगार, जानिए श्रीराम की मूर्ति की सभी खूबियां…

Ramlala seated in Shri Ram temple of Ayodhya: आखिरकार रामलला अयोध्या में विराजमान हो गए। भगवान के बाल स्वरूप का पूरे विधि-विधान से अभिषेक किया गया। इस बीच रामलला की मूर्ति की बेहद खास तस्वीरें सामने आई हैं। सुसज्जित मूर्ति में भगवान के संपूर्ण स्वरूप के दर्शन होते हैं। तस्वीर में रामलला माथे पर तिलक लगाए बेहद सौम्य मुद्रा में नजर आ रहे हैं.

रामलला की मूर्ति की क्या है खासियत ?

भगवान राम के बाल स्वरूप की मूर्ति की सोमवार को गर्भगृह में स्थापना के बाद प्राण प्रतिष्ठा की गई। तस्वीर में रामलला माथे पर तिलक लगाए बेहद सौम्य मुद्रा में नजर आ रहे हैं. आभूषणों और वस्त्रों से सुसज्जित रामलला के चेहरे पर भक्तों को मंत्रमुग्ध कर देने वाली मुस्कान दिखाई दे रही है. उन्होंने कानों में झुमके और पैरों में कंगन पहने हुए हैं. मूर्ति के नीचे आभामंडल में चारों भाइयों राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न की छोटी-छोटी मूर्तियाँ बनाकर पूजा की गई है।

मूर्ति का वजन करीब 200 किलो है

मूर्ति की विशेषताओं पर नजर डालें तो इसमें कई खूबियां हैं। मूर्ति का वजन करीब 200 किलो है. इसकी कुल ऊंचाई 4.24 फीट है, जबकि इसकी चौड़ाई तीन फीट है. यह मूर्ति कमल के फूल पर खड़ी मुद्रा में है, जिसके हाथों में धनुष-बाण है। मूर्ति को कृष्ण शैली में बनाया गया है। यह मूर्ति श्याम शिला से बनी है, जो हजारों साल पुरानी है। पानी से मूर्ति को कोई नुकसान नहीं होगा. चंदन, रोली आदि लगाने से भी मूर्ति पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

और क्या है खास?

रामलला के चारों ओर एक आभामंडल है. मूर्ति पर स्वस्तिक, ॐ, चक्र, गदा और सूर्य देव विराजमान हैं। श्री राम की भुजाएँ घुटनों तक लम्बी हैं। मस्तक सुन्दर, आँखें बड़ी और माथा भव्य है। भगवान राम का दाहिना हाथ आशीर्वाद मुद्रा में है। मूर्ति में भगवान विष्णु के 10 अवतार दिखाई देते हैं। मूर्ति के नीचे एक तरफ भगवान राम के परम भक्त हनुमान जी और दूसरी तरफ गरुड़ जी खुदे हुए हैं।

मूर्ति में पांच साल के बच्चे की बालसुलभ कोमलता दिखाई देती है। मूर्ति का निर्माण मूर्तिकार अरुण योगीराज ने किया है. इससे पहले श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के अधिकारियों ने बताया था कि चुनी गई मूर्ति में बचपन, दिव्यता और एक राजकुमार की छवि दिखाई देती है।

मूर्ति का चयन करना कठिन था

अयोध्या के श्री राम मंदिर में तीन मूर्तियां स्थापित की गई हैं, जिनमें से एक मूर्ति गर्भगृह में स्थापित की गई है। इसके निर्माण के बाद सबसे बड़ा सवाल यह था कि गर्भगृह में रामलला किस रूप में विराजमान होंगे. मूर्तिकारों ने तीनों मूर्तियां इतनी सुंदर बनाईं कि यह चुनना मुश्किल हो गया कि कौन सी सुंदर है और कौन सी नहीं। अंततः राम मंदिर के गर्भगृह में बाल रूपी मूर्ति स्थापित करने का निर्णय लिया गया।

अब ऐसे दिख रहे रामलला

  • रामलला पीतांबर से सुशोभित हैं और हाथों में धनुष बाण धारण किए हुए हैं।
  • रामलला ने सोने का कवच कुंडल, करधन माला धारण की हुई है।
  • रत्न जड़ित मुकुट का वजन करीब पांच किलो बताया जा रहा है।
  • रामलला के मुकुट में नौ रत्न सुशोभित हैं और गले में सुंदर रत्नों की माला है।
  • भगवान रामलला की कमरबंद भी सोने से बना है।
  • रामलला के आभूषणों में रत्न, मोती, हीरे शामिल हैं।
  • रामलला के चरणों में वज्र, ध्वजा और अंकुश के चिन्ह शोभित हैं।
  • कमर में करधनी और पेट पर त्रिवली हैं।
  • रामलला की विशाल भुजाएं आभूषणों से सुशोभित हैं।
  • रामलला की छाती पर बाघ के नख की बहुत ही निराली छटा है।
  • छाती पर रत्नों से युक्त मणियों के हार की शोभा है।

Read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001 29 IAS-IPS

Advertisements
Show More
Back to top button