ट्रेंडिंगदेश - विदेशधर्मस्लाइडर

Ram Mandir: ट्रस्ट ने भीड़ को देखते हुए समय में किया बदलाव, अब भक्त इस समय रामलला के दर्शन कर सकेंगे

Ram Mandir Trust changed the timing in view of the crowd: 22 जनवरी को राम मंदिर के उद्घाटन से लेकर अब तक भगवान के दर्शन के लिए आने वाले भक्तों की संख्या कम नहीं हो रही है। मंदिर के बाहर अभी भी भक्तों की भारी संख्या मौजूद है। श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने भक्तों की भारी संख्या को देखते हुए भगवान राम के दर्शन और आरती के समय में बदलाव कर दिया है, जिससे ज्यादा से ज्यादा भक्तों को आसानी से भगवान के दर्शन मिल सकें।

विश्व हिंदू परिषद के मीडिया प्रभारी शरद शर्मा के अनुसार रामलला की मंगला आरती साढ़े चार बजे और श्रृंगार आरती (उत्थान आरती) सुबह साढ़े छह बजे होगी। इसके बाद भक्तों को दर्शन सुबह सात बजे से शुरू कर दिया जायेगा।

भोग आरती दोपहर बारह बजे

उन्होंने बताया कि भोग आरती दोपहर बारह बजे, संध्या आरती शाम साढ़े सात बजे और नौ बजे रात्रि भोग कराया जायेगा। भगवान की शयन आरती रात दस बजे होगी। ट्रस्ट लगातार परिवर्तन कर लोगों के लिए भगवान का दर्शन सुलभ बना रहा है। इसके पहले मंदिर में प्रवेश द्वार की संख्या दो से बढ़ाकर छः कर दी गई थी।

अब ऐसे दिख रहे रामलला

  • रामलला पीतांबर से सुशोभित हैं और हाथों में धनुष बाण धारण किए हुए हैं।
  • रामलला ने सोने का कवच कुंडल, करधन माला धारण की हुई है।
  • रत्न जड़ित मुकुट का वजन करीब पांच किलो बताया जा रहा है।
  • रामलला के मुकुट में नौ रत्न सुशोभित हैं और गले में सुंदर रत्नों की माला है।
  • भगवान रामलला की कमरबंद भी सोने से बना है।
  • रामलला के आभूषणों में रत्न, मोती, हीरे शामिल हैं।
  • रामलला के चरणों में वज्र, ध्वजा और अंकुश के चिन्ह शोभित हैं।
  • कमर में करधनी और पेट पर त्रिवली हैं।
  • रामलला की विशाल भुजाएं आभूषणों से सुशोभित हैं।
  • रामलला की छाती पर बाघ के नख की बहुत ही निराली छटा है।
  • छाती पर रत्नों से युक्त मणियों के हार की शोभा है।

Read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001 29 IAS-IPS

Advertisements
Show More
Back to top button