ट्रेंडिंगदेश - विदेशमध्यप्रदेशस्लाइडर

मंत्री दिलीप जायसवाल कितने करोड़ के मालिक ? कितना है सोना-चांदी, कितनी जमीन, कितने पढ़े-लिखे, जानिए क्रिमिनल रिकॉर्ड ?

Detailed profile of Kotma MLA Dilip Jaiswal: मध्यप्रदेश में चुनाव हुए, सरकार बनी और सरकारी कामकाज फिर से रफ्तार पकड़ने लगे हैं। इसी बीच हम आपको आपके विधानसभा कोतमा के विधायक दिलीप जायसवाल की सियासी सफर और उनसे जुड़ी कुछ जानकारी देंगे, जैसे की कितनी संपत्ति, कितने खजाने के मालिक हैं, करोड़पति हैं कि नहीं या फिर कितने केस दर्ज हैं, कितनी जमीन है। समेत कई जानकारियां साझा करेंगे, जो दिलीप जायवाल ने अपने हल्फनामे में चुनाव आयोग को दी है।

मंत्री दिलीप जायसवाल के बारे में

Detailed profile of Kotma MLA Dilip Jaiswal: दिलीप जायसवाल का जन्म 3 सितंबर 1961 को हुआ था। उन्होंने स्नातक तक शिक्षा प्राप्त की है। 1982 में संघ में शामिल हुए और भाजपा में पूरी तरह से समर्पित होकर कार्यकर्ता के तौर पर लगातार आगे बढ़ते रहे। दिलीप जायसवाल वार्ड पार्षद, नगर अध्यक्ष एवं जिला महामंत्री जैसे पद पर रहकर पार्टी के प्रति समर्पित रहे।

दिलीप जायसवाल दूसरी बार विधायक बने

Detailed profile of Kotma MLA Dilip Jaiswal: दिलीप जयसवाल अनूपपुर जिले की कोतमा सामान्य सीट से दूसरी बार विधायक हैं। विधानसभा क्षेत्र से ऐसे नेता हैं जिन्हें मंत्री पद से नवाजा गया है। दिलीप जयसवाल पहली बार 2008 में कोतमा से विधायक चुने गए थे, जिसके बाद 2018 में उन्हें टिकट भी मिला लेकिन हार गए। तीसरी बार उन्हें विधानसभा प्रत्याशी बनाया गया।

Detailed profile of Kotma MLA Dilip Jaiswal: 2006 में बीजेपी के जिला अध्यक्ष रहे दिलीप जयसवाल ने अपना पहला चुनाव 2008 में लड़ा था। 2006 में बीजेपी जिला अध्यक्ष भी रहे. इसके बाद उन्होंने साल 2008 में पहली बार चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। दिलीप जयसवाल, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य, विशेष आमंत्रित सदस्य एवं प्रधानमंत्री जन कल्याण योजना के प्रदेश सह-संयोजक का दायित्व भी निभाया।

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में शपथ ली

22 हजार 788 वोटों से जीते और मोहन यादव के मंत्रिमंडल में जगह बनाई। उनके मंत्री बनने से कोतमा सहित पूरे जिले में खुशी का माहौल है. सोमवार सुबह राज्य मंत्रालय से बुलावा आने के बाद दिलीप जायसवाल भोपाल के लिए रवाना हुए और फिर उन्होंने पहुंचकर राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पद की शपथ ली।

दिलीप जायसवाल के पास कितनी जमीन ?

चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र के मुताबिक दिलीप जायसवाल के पास बिजुरी, मोपका, नगरबांधा, कोतमा और कोरजा समेत 2 करोड़ 20 लाख कीमत जमीन है। इसके अलावा बिजुरी, ग्राम कटकोना, समतपुर और बिजुरी मिलाकर 2 करोड़ 50 लाख की जमीन है। इसी तरह कई अलग-अलग जगहों पर जमीन है, जिसकी कुल कीमत 6 करोड़ 30 लाख रुपए है।

दिलीप जायसवाल के नाम पर कितनी गाड़ियां ?

चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र के मुताबिक दिलीप जायसवाल के पास टाटा नेक्सन रजि. क्रमांक CG16CN8569 वर्ष 2020-21 है, जिसकी कीमत 10 लाख 37 हजार 900 रुपए है। वहीं स्कूटी मैस्ट्रो MP65S0870 वर्ष 2016 है, जिसकी कीमत 50 हजार रुपए है। कुल मिलाकर 10 लाख 87 हजार 900 रुपये की दो गाड़ियां हैं।

दिलीप जायसवाल के पास कितना सोना-चांदी ?

चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र के मुताबिक दिलीप जायसवाल के पास 140 ग्राम सोना है, जिसकी कीमत 8 लाख 40,000 रुपए है। वहीं 1 किलो चांदी है, जिसकी कीमत 70 हजार+ है। इसके साथ 300 ग्राम सोना और है, जिसकी कीमत 18 लाख+ है। साथ ही चांदी 3 किलो है। चांदी की कीमत 2 लाख 10 हजार रुपए है। दिलीप जायवाल के पास डायमंड नेकलेस है, जिसकी कीमत 3 लाख+ है। इस तरह से दिलीप जायसवाल के पास 41 लाख 80 हजार रुपए के आभूषण हैं।

दिलीप जायसवाल कितने करोड़ के मालिक ?

Detailed profile of Kotma MLA Dilip Jaiswal: चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र के मुताबिक दिलीप जायसवाल 7 करोड़ 29 लाख 89 हजार 129 रुपये की संपत्ति के मालिक हैं। वहीं देनदारी की बात करें, तो 1,00,000 रुपए है।

दिलीप जायसवाल पर क्रिमिनल रिकॉर्ड ?

Detailed profile of Kotma MLA Dilip Jaiswal: चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र के मुताबिक दिलीप जायसवाल पर एक मुकदमा दर्ज है, जिसमें एससीपीपी नं. 01/2023 एमपी/एमएलए विशेष न्यायालय जबलपुर (एमपी) 420, 467, 468, 471, 409, 413, 34 के तहत मामला दर्ज है।

क्या हैं ये धाराएं ?

  • धोखाधड़ी और बेईमानी से संपत्ति की डिलीवरी के लिए प्रेरित करने से संबंधित आरोप (आईपीसी धारा-420)
  • मूल्यवान सुरक्षा, वसीयत आदि की जालसाजी से संबंधित आरोप (आईपीसी धारा-467)
  • धोखाधड़ी के उद्देश्य से जालसाजी से संबंधित आरोप (आईपीसी धारा-468)
  • लोक सेवक, या बैंकर, व्यापारी या एजेंट द्वारा आपराधिक विश्वासघात से संबंधित आरोप (आईपीसी धारा-409)
  • चोरी की संपत्ति का आदतन सौदा करने से संबंधित आरोप (आईपीसी धारा-413)
  • जाली दस्तावेज़ या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड को असली के रूप में उपयोग करने से संबंधित आरोप (आईपीसी धारा-471)
  • सामान्य इरादे को आगे बढ़ाने में कई व्यक्तियों द्वारा किए गए कृत्यों से संबंधित आरोप (आईपीसी धारा -34)

नोट- यह जानकारी उम्मीदवार के स्व-घोषित हलफनामे का संग्रह है जो चुनाव के दौरान दायर किया गया था। इस जानकारी की वर्तमान स्थिति भिन्न हो सकती है. नवीनतम उपलब्ध जानकारी के लिए, कृपया नवीनतम चुनाव में उम्मीदवार द्वारा चुनाव आयोग को दायर किया गया हलफनामा देखें। 

Read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001 29 IAS-IPS

Advertisements
Show More
Back to top button