जुर्ममध्यप्रदेशस्लाइडर

एसआई की पत्नी ने की आत्महत्या: भाभी से आखिरी बार की थी बात, फिर लगा ली फांसी

SI wife commits suicide in Gwalior: मध्यप्रदेश के ग्वालियर में एसआई की पत्नी ने आत्महत्या से पहले आखिरी बार अपनी भाभी से बात की थी। मंगलवार दोपहर तीन बजे बातचीत के दौरान उसने भाभी से कहा कि उसे बहुत बुरा लग रहा है। शाम साढ़े चार बजे बेटा कॉलेज से घर पहुंचा तो मां फंदे पर लटकी मिली।

जौरा (मुरैना) से आए मायके वालों ने भी फिलहाल कोई आरोप नहीं लगाया है। पुलिस की शुरुआती जांच में पता चला है कि उनकी 11 साल की बेटी की 4 साल पहले बीमारी से मौत हो गई थी। इस वजह से वह तनाव में रहती थी।

मनीषा गुर्जर (40) के पति शैलेन्द्र सिंह गुर्जर महाराजपुर थाने में सब इंस्पेक्टर हैं। दोनों की शादी 21 साल पहले हुई थी। यह परिवार शहर के डीडी नगर इलाके में रहता है। शैलेन्द्र इस क्षेत्र के प्रभारी भी हैं। मंगलवार शाम को वह ड्यूटी पर था। बेटा सुमित गुर्जर (19) एमिटी यूनिवर्सिटी में क्लास करने के बाद घर लौटा तो दरवाजा खुला था। उसने पड़ोसियों की मदद से मां को फंदे से उतारा और बिड़ला अस्पताल ले गया। यहां डॉक्टरों ने मनीषा को मृत घोषित कर दिया।

भाई बोला- जो भी हुआ, 1 घंटे में हुआ

मनीषा के भाई मनोज गुर्जर ने बताया कि 3 बजे घर पर दीदी से बात हुई थी। इसके बाद शाम 4.45 बजे उनकी मौत की खबर मिली। वह डिप्रेशन में थी। बताया जा रहा है कि उन्होंने यह कदम 3 से 4 बजे के बीच उठाया। इस एक घंटे में न जाने क्या हुआ।

एएसपी अमृत मीना का कहना है कि 4 साल पहले शैलेन्द्र और मनीषा की 11 साल की बेटी अंशिका की मौत हो गई थी। बेटी अक्सर बीमार रहती थी। उनकी मौत के बाद मनीषा डिप्रेशन में आ गई थीं। पुलिस अभी भी आत्महत्या के पीछे इसी को वजह मानकर जांच कर रही है।

सेना से रिटायर होने के बाद शैलेन्द्र पुलिस में भर्ती हुए

सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह गुर्जर की गिनती तेज तर्रार पुलिसकर्मियों में होती है। वह क्राइम ब्रांच में भी रह चुके हैं। वे घाटीगांव और देहात थाने के प्रभारी भी रह चुके हैं। शैंलेद्र गुर्जर के बारे में बताया गया है कि वह सेना से रिटायर होने के बाद पुलिस में भर्ती हुए थे।

Read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001 29 IAS-IPS

Advertisements
Show More
Back to top button