नौकरशाहीमध्यप्रदेशस्लाइडर

डिंडौरी में इंजीनियर के सरंक्षण में चल रहा भ्रष्टाचार ! पत्थर डालकर करा रहे चेकडैम का निर्माण, करप्शन पर अंकुश लगाने में सिस्टम नाकाम

जनपद पंचायत समनापुर के ग्राम पंचायत करेगांव के सिंघनपुरी का है मामला

गणेश मरावी,डिंडौरी। मध्यप्रदेश के डिंडौरी जिले में निर्माण कार्यों में लगातार भ्रष्टाचार करने का मामला सामने आ रहे हैं। भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के बजाय अफसर और नेता चुप्पी साधे हैं। एक तरफ सरकार के द्वारा छोटे – छोटे नालों में चेकडैम निर्माण कराकर स्थानीय किसानों के खेतों में सिचाईं समेत दैनिक निस्तार के लिए साधन बनाने के लिये लाखों करोड़ों रुपए खर्च कर रही है। दूसरी ओर सरपंच-सचिव और उपयंत्री युगल किशोर वंशपाल के मिलीभगत से गुणवत्ताविहीन निर्माण कर लाखों रुपए का बंदरबाट कर सरकार को चूना लगाया जा रहा है।

दरअसल जनपद पंचायत समनापुर के ग्राम पंचायत करेगांव के पोषक ग्राम सिंघनपुरी के डूमर नाला में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत लाखों रू की लागत से चैकडेम निर्माण कराया जा रहा है, जहां पर सरपंच हीरा सिंह धुर्वे और सचिव प्रहलाद सिं ठाकुर के द्वारा पत्थर डालकर कराया जा रहा है।

चैकडेम की बेस में गिट्टी की जगह डाल रहे पत्थर

प्राप्त जानकारी के अनुसार सिंघनपुरी के डूमर नाला में चेकडैम का निर्माण कराने के लिये 3 महीने पहले शुरू किया गया था। जिसमें चैकडेम की नींव में नीचे पत्थर डालकर ऊपर से सीमेंट और रेत से फर्स कर दिया गया हैं, जो बारिश में क्षतिग्रस्त हो गई है। बताया गया कि चेकडैम का निर्माण बारिश के कारण रोक दिया गया था, लेकिन अब शुरू होने वाली है।

हाथ से तोड़े गए पत्थर का नहीं होता इस्तेमाल

इस चेकडैम का निर्माण कराने के लिए सरपंच- सचिव के द्वारा हाथ से तोडे़ गये पत्थर का उपयोग करने के लिये निर्माण स्थल में लाया गया है। जबकि चेकडैम की निर्माण कराने के लिये हाथ से तोड़े गये पत्थर का उपयोग नहीं किया जा सकता है। उसके बावजूद सरपंच – सचिव के द्वारा मनमानी पूर्वक पत्थर से निर्माण कराया जा रहा है।

क्या बोले अधिकारी

इस मामले में मुख्य कार्यपालन अधिकारी सीपी साकेत ने कहा कि आपके माध्यम से जानकारी लगी है, मैं जल्द ही जांच कर आपको उपलब्ध कराता हूँ।

Read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001 29 IAS-IPS

Advertisements
Show More
Back to top button