छत्तीसगढ़देश - विदेशस्लाइडर

छत्तीसगढ़ में मिले भालू के 2 शवक: सफेद और काले रंग के भालुओं को भेजा गया रायपुर, जंगल लेकर आए थे ग्रामीण

Black and white bear cubs in Chirmiri range of Koriya Forest Division: कोरिया वन मंडल के चिरमिरी रेंज के ग्राम बहालपुर के जंगल में बुधवार को भालू के दो बच्चे मिले। इसमें एक दुर्लभ सफेद भालू का शावक और दूसरा काले भालू का शावक है। जंगल से उठाकर ग्रामीण अपने गाँव ले गये, फिर उन्होंने इसकी सूचना वन विभाग को दी. सूचना मिलते ही वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी गांव पहुंच गये. यहां ग्रामीणों ने शावकों को उन्हें सौंप दिया।

Black and white bear cubs in Chirmiri range of Koriya Forest Division- पशु चिकित्साधिकारी द्वारा भालू शावकों का चिकित्सीय परीक्षण कराया गया। बताया जा रहा है कि बहालपुर जंगल की ओर गए ग्रामीणों की नजर अचानक भालू के दो बच्चों पर पड़ी तो वे हैरान रह गए. सफेद भालू के बच्चे को देखकर उसने उसे उठा लिया और दोनों को गांव ले आया क्योंकि मादा भालू आसपास नहीं थी। डिप्टी रेंजर एसडी सिंह ने बताया कि फिलहाल दोनों शावकों को रायपुर भेजा गया है।

बच्चों को जन्म देने के बाद मादा भालू का कोई पता नहीं चल रहा

Black and white bear cubs in Chirmiri range of Koriya Forest Division- डिप्टी रेंजर एसडी सिंह ने बताया कि बच्चों को जन्म देने के बाद मादा भालू कहीं चली गई है। दोनों को विशेष निगरानी में रखा गया है. विशेषज्ञ डॉक्टरों की देखरेख में भालू को मादा भालू से मिलाने का प्रयास जारी है।

सूरजपुर जिले के पार्वतीपुर में भालू ने बच्चों को भी जन्म दिया

यहां सूरजपुर जिले के प्रेमनगर वन परिक्षेत्र के ग्राम पार्वतीपुर में जंगल से लगे एक खाली कच्चे मकान में भालू ने बच्चों को जन्म दिया है. इसका खुलासा बुधवार सुबह हुआ। महिला उस घर के पास से गुजर रही थी. जब उसे घर के अंदर से आवाज सुनाई दी तो उसने गांव वालों को जानकारी दी. जब ग्रामीण सावधानी से छत पर चढ़ गए और खपरैल हटाने लगे तो अचानक मादा भालू कमरे से बाहर निकलकर भाग गई।

मामले की जानकारी वन विभाग को दी गई

Black and white bear cubs in Chirmiri range of Koriya Forest Division- कमरे के अंदर भालू के दो बच्चे थे। ग्रामीणों ने बताया कि भालू का आना-जाना लगा रहता है. वे भालू के दो बच्चों पर भी नजर रख रहे हैं. यह वह क्षेत्र है जहां भालू विचरण करते हैं। ऐसा पहले भी हो चुका है. वन विभाग को सूचना दे दी गयी है.

Read more- Landmines, Tanks, Ruins: The Afghanistan Taliban Left Behind in 2001 29 IAS-IPS

Advertisements
Show More
Back to top button